Motivational/Inspirational

चिंता नहीं, चिंतन करें

जो समय चिंता में गया, समझों कुड़ेदान में गया।
जो समय चिन्तन में गया, समझों तिजोरी में गया।।

सच में हम चिंता/तनाव कर अपना कीमती समय बर्बाद कर लेते है। फिर जब हमें असफलता मिलती है तब हम उसका अफसोस करते है। “अब पछ्ताये होत क्या जब चिड़ियाँ चुग गई खेत” इस कहावत से आप समझ ही गये होंगें कि अपना अमुल्य समय चिंता में युँही बर्बाद करने के बाद हमें पछताने और अफसोस करने से कुछ हासिल नहीं होगा।।

अनुशासन के दिप जलाएं, जीवन में सफलता पाएं

“अनुशासन ही अपने जीवन के उद्देश्य और उपलब्धि के बीच का सेतु है।”

अनुशासन अर्थात् अनुशास्यते नैन। इसका अर्थ है – स्वयं का स्वयं पर शासन। ‘अनुशासन’ शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है। अनु+शासन यानि अपने ऊपर स्वयं शासन करना तथा शासन के अनुसार अपने जीवन को चलाना ही अनुशासन है। जो इंसान अनुशासन में नहीं रह सकता वह अपने जीवन का निर्माण कभी नहीं कर सकता।

नींद नहीं महबूबा जो नखरे दिखाएगी, बस ये काम कर लीजिए, बिना किसी लागत रोज नींद आएगी

नींद नहीं महबूबा जो नखरे दिखाएगी, बस ये काम कर लीजिए, बिना किसी लागत रोज नींद आएगी Author Name – Roshan Bafna Categories – Health & Wealth  -रोशन बाफना, लेखक व पत्रकार नींद को आप खुद आने ही नहीं देते और उल्टी शिकायत भी नींद की करते हो। देखा जाए तो नींद नहीं आना असंभव …

नींद नहीं महबूबा जो नखरे दिखाएगी, बस ये काम कर लीजिए, बिना किसी लागत रोज नींद आएगी Read More »

error: Content is protected !!